Connect with us

Business

बंद या विलय हो सकती हैं पंजाब नेशनल बैंक की कई शाखाएं

Business 3-01-2018 2095

बंद या विलय हो सकती हैं पंजाब नेशनल बैंक की कई...

अगर आपका बैंक खता पंजाब नेशनल बैंक में है तो ये खबर आपको परेशान कर सकती है l बता दें की पीएनबी अपनी देशभर में मौजूद शाखाओं को तर्कसंगत बनाने का काम तेजी से कर रही है l इसके तहत पीएनबी ने अपनी 300 शाखाओं को निगरानी में रखे हुए है l इन शाखाओं पर सख्ती दिखाते हुए कहा गया है, या तो वे अपनी स्थिति में सुधार का प्रयास करें या बंदी अथवा  विलय के लिए तैयार रहें l यदि पीएनबी ने इस योजना को सुचारु रूप से  किया तो आपका खाता जिस ब्रांच में  है वह बंद भी हो सकती है या फिर आपके घर से दूर हो सकती है l

इस बारे में पीएनबी के प्रबंध निदेशक सुनील मेहता ने कहा कि, ‘शाखाओं को तर्कसंगत बनाने की प्रक्रिया चल रही है. हमने घाटे में चल रही पीएनबी की सभी शाखाओं को नोटिस दे दिया है कि वे एक साल में अपनी स्थिति में सुधर करें, ऐसा नहीं होने पर हम  इन शाखाओं को बंद करने या उनका विलय करने पर विचार करेंगे. हमारी नजर 300 शाखाओं पर  है’l हालांकि, मेहता ने यह भी स्पष्ट किया कि ये सभी शाखाएं घाटे वाली नहीं हैं l इनमें से कुछ मामूली मुनाफा भी कमा रही हैं l
मेहता का कहना है कि हम इन योजनाओं पर काम कर रहे हैं l यदि ये शाखाएं अपनी स्थिति सुधार लेंगी  तो उनके लिए ठीक होगा नहीं तो  उन्हें बंद कर दिया  जाएगा या उनका विलय किया जाएगा l पीएनबी देश के दूसरे सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक है और  देशभर में इसकी 7,000 शाखाएं हैं l पिछले महीने वित्त मंत्रालय द्वारा  आयोजित ‘पीएसबी मंथन’ में शाखाओं को तर्कसंगत बनाने के प्रस्ताव पर विचार हुआ l मेहता ने कहा कि विदेशी शाखाओं में  बैंक ने आस्ट्रेलिया और चीन में अपने प्रतिनिधि कार्यालय बंद करने का फैसला किया है l

फिलहाल पीएनबी की 9 देशों में शाखाएं  है l जिनमे  हांगकांग में दो, दुबई में एक और ओबू-मुंबई में एक शाखा है l इसके अलावा लंदन और भूटान में दो अनुषंगी शाखाएं  हैं l कजाखस्तान में एक सहायक इकाई, नेपाल में एक संयुक्त उद्यम,ऑस्ट्रेलिया के सिडनी, शंघाई , ढाका और दुबई-यूएई में चार प्रतिनिधि कार्यालय हैं l
 

Please Note : The opinions/views expressed in the above article/content are the personal views/opinions of the author and do not represent the views of Nimbuzz or the Publisher MGTL.
Continue Reading

Trending